लोकसभा चुनाव के बाद आज से संसद सत्र शुरू

लोकसभा चुनाव के बाद आज से संसद सत्र शुरू हो गया है। यह मोदी सरकार के तीसरे कार्यकाल का प्रथम सत्र है।
लोकसभा चुनाव के बाद आज से संसद सत्र शुरू

लोकसभा चुनाव के बाद आज से संसद सत्र शुरू हो गया है। यह मोदी सरकार के तीसरे कार्यकाल का प्रथम सत्र है। इस दौरान सभी 543 सांसद संसद में मौजूद थे, कई मायनों में यह सत्र मोदी सरकार के लिए खास होने वाला है। स्वाभाविक है कि अगले कुछ दिनों तक सबकी निगाहें देश की संसद पर रहेंगी।

यह सत्र क्यों होगा खास!

प्रोटेम स्पीकर और पीएम मोदी की शपथ

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने बीजेपी सांसद भर्तृहरि महताब को प्रोटेम स्पीकर पद की शपथ दिलाई। इसके बाद राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को सदन के सामने शपथ लेने के लिए आमंत्रित किया। पीएम मोदी के साथ आज एनडीए के 280 सांसदों ने शपथ ली। इंडिया अलायंस के 264 सांसद कल राहुल गांधी के साथ शपथ लेते नजर आएंगे।

प्रोटेम स्पीकर पर विवाद

प्रोटेम स्पीकर के चुनाव को लेकर पक्ष और विपक्ष में मतभेद देखने को मिला हैं, जाहिर है इसका असर संसद की कार्यवाही पर भी पड़ेगा। आपको बता दें कि प्रोटेम स्पीकर का पद संसद के सबसे वरिष्ठ सांसद को दिया जाता है। इस सिलसिले में 8 बार सांसद रह चुके कांग्रेस नेता के सुरेश को प्रोटेम स्पीकर बनना था, लेकिन बीजेपी ने यह जिम्मेदारी 7 बार के सांसद भर्तृहरि महताब को सौंपी है।

लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव

दो दिवसीय शपथ ग्रहण समारोह के बाद 26 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। प्रोटेम स्पीकर लोकसभा अध्यक्ष बनने तक सदन की अध्यक्षता करेंगे। 26 जून को प्रोटेम स्पीकर सर्वसम्मति से नए लोकसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव करेंगे।

प्रोटेम स्पीकर का पद रद्द कर दिया जाएगा

आपको बता दें कि लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव साधारण बहुमत से होता है। यानी लोकसभा स्पीकर के लिए 274 सांसदों का समर्थन हासिल करना अनिवार्य है। सदन में बीजेपी के पास बहुमत है, इसलिए स्वाभाविक है कि लोकसभा अध्यक्ष भी बीजेपी का ही होगा। लोकसभा अध्यक्ष बनने के बाद प्रोटेम स्पीकर का पद ख़त्म हो जाएगा।

पेपर लीक मामले में सरकार को घेरा जाएगा

संसद के मानसून सत्र में विपक्ष कई बड़े मुद्दे उठा सकता है। इसमें NEET और NET पेपर लीक जैसी अहम बातें भी शामिल हैं। विपक्ष नीट परीक्षा में गड़बड़ी और नेट परीक्षा रद्द करने को लेकर सवाल उठाएगा और बीजेपी से जवाब मांगेगा।

पेपर लीक विरोधी अधिनियम

आपको बता दें कि सरकार ने प्रतियोगी परीक्षाओं में गड़बड़ी रोकने के लिए एंटी पेपर लीक एक्ट लागू किया है। इस कानून के तहत पेपर लीक में शामिल दोषियों को 10 साल की जेल और 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। सरकार ने परीक्षा सुधारों की समीक्षा के लिए सात सदस्यीय समिति का गठन किया है।

कांग्रेस उठाएगी सवाल

नीट पेपर लीक मामला सामने आने के बाद से ही कांग्रेस पार्टी शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के इस्तीफे की मांग कर रही है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी पहले ही कह चुके हैं कि वह इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे। इसके चलते विपक्ष सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश कर सकता है।

राष्ट्रपति संयुक्त सभा को संबोधित करेंगी

26 जून को लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव करने के बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 27 जून को लोकसभा और राज्यसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगी। साथ ही राष्ट्रपति अगले पांच साल के लिए सरकार की नीतियों का रोडमैप भी पेश कर सकती हैं।

सत्र 3 जुलाई तक चलेगा

आज से शुरू हुआ संसद का यह सत्र 3 जुलाई तक चलेगा। इसके बाद सभी सांसद 22 जुलाई को संसद में मानसून सत्र के लिए फिर से जुटेंगे।

22 जुलाई को आएगा बजट

मोदी 3.0 बजट 22 जुलाई को जारी होगा. वित्त मंत्री निर्मना सीतारमण संसद में बजट पेश करेंगी। रिपोर्ट्स की मानें तो इस बजट में जीएसटी और टैक्स से जुड़े कई बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

logo
NewsCrunch
news-crunch.com